चैटजीपीटी के creator सैम अल्टमैन का डर: AI छीन सकता है लोगों की नौकरियां!

artificial intelligence (AI) धीरे-धीरे रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बन रहा है। चैटजीपीटी जैसी लार्ज लैंग्वेज मॉडल (एलएलएम) ने दुनिया को इसकी एक झलक दिखाई है। लेकिन, ओपनएआई के सीईओ सैम अल्टमैन को डर है कि एआई का इस्तेमाल बढ़ने से लोगों की नौकरियां छिन सकती हैं।

अल्टमैन की चिंताएं:

  • सामाजिक-आर्थिक बदलाव: अल्टमैन का मानना है कि एआई का तेजी से विकास सामाजिक और आर्थिक बदलाव लाएगा, जिसके परिणाम अभी पूरी तरह से समझ में नहीं आ रहे हैं।
  • नौकरी का खतरा: उनका कहना है कि एआई कई क्षेत्रों में इंसानों की जगह ले सकता है, जिससे नौकरी छूटने का खतरा है।
  • कम जागरूकता: अल्टमैन चिंतित हैं कि लोग एआई के खतरों को लेकर अभी तक गंभीर नहीं हैं।

चैटजीपीटी और एआई का भविष्य:

  • चैटजीपीटी ओपनएआई द्वारा विकसित एक एलएलएम है, जो टेक्स्ट जेनरेट करने, भाषाओं का अनुवाद करने और विभिन्न रचनात्मक कार्यों को करने में सक्षम है।
  • कई कंपनियां एआई-आधारित एलएलएम मॉडल विकसित कर रही हैं, जिनमें गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और ओला शामिल हैं।
  • अल्टमैन का मानना है कि एआई में समाज के लिए फायदेमंद होने की क्षमता है, लेकिन इसके संभावित खतरों को लेकर भी सतर्क रहना ज़रूरी है।

एआई निश्चित रूप से क्रांतिकारी बदलाव ला रहा है, लेकिन हमें इसके नकारात्मक पहलुओं को भी ध्यान में रखना होगा। सरकारों, कंपनियों और नागरिकों को मिलकर यह सुनिश्चित करना होगा कि एआई का इस्तेमाल मानवता के हित में हो, न कि उसके विनाश के लिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *